रेल हादसों पर सुरेश प्रभु ने की इस्तीफे की पेशकश, पीएम ने कहा- इंतजार करो

नई दिल्ली। चार दिन में हुए दो बड़े ट्रेन हादसों के बाद रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए पीएम मोदी के सामने इस्तीफे की पेशकश की है. सुरेश प्रभु ने खुद सोशल मीडिया के जरिए ये जानकारी दी है. पीएम मोदी ने अभी सुरेश प्रभु से इंतजार करने को कहा है।

ट्वीट में प्रभु ने कहा- हादसों में यात्रियों की जान जाने से दुखी हूं
सुरेश प्रभु ने ट्विटर पर लिखा है, ”इन हादसों की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए मैंने पीएम मोदी से मुलाकात की. पीएम ने मुझे इंतजार करने को कहा है.” उन्होंने आगे लिखा है, ”मैं इन दुर्भाग्यपूर्ण हादसों और उसमें यात्रियों की जान जाने और उनके घायल होने से बेहद दुखी हूं।”

रेलवे की बेहतरी के लिए खून पसीना बहाया
सुरेश प्रभु ने एक ही साथ कुल पांच ट्वीट किए हैं और लिखा है कि उन्होंने तीन से भी कम सालों में रेलवे की बेहतरी के लिए अपना खून-पसीना एक कर दिया है. उन्होंने ये भी कहा है कि उन्होंने रेलवे के सभी क्षेत्रों में सुधार के लिए पूरी कोशिश की।

इस्तीफे पर प्रधानमंत्री फैसला लेंगे: अरुण जेटली
वित्त मंत्री अरुण जेटली ने रेलमंत्री के इस्तीफे पर कहा, “सरकार में जवाबदेही अच्छी बात है. रेल मंत्री के फैसले के पर प्रधानमंत्री फैसला लेंगे।”

रेलवे के बड़े अधिकारियों को भी नहीं जानकारी
एबीपी न्यूज़ को सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक रेलवे बोर्ड के बड़े अधिकारियों को भी प्रधानमंत्री और रेलमंत्री की मुलाकात और इस्तीफे को लेकर कोई जानकारी नहीं थी. रेलमंत्री के अचानक इस्तीफे से रोलवे बोर्ड के अधिकारी भी हैरान हैं।

विपक्ष कर रहा था इस्तीफे की मांग
आपको बता दें कि पिछले चार दिनों में दो बड़े रेल हादसों के बाद विपक्ष लगाातर सुरेश प्रभु पर निशाना साध रहा था उनके इस्तीफे की भी मांग की गई थी। हर तरफ से आलोचनाओं में घिरे सुरेश प्रभु ने अब पीएम के सामने इस्तीफे की पेशकश की है।

सुरेश प्रभु से पहले आज ही रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अशोक कुमार मित्तल ने इन हादसों की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दे दिया. यहां पढ़ें

आज डंफर से डकराई कैफियत एक्सप्रेस, 74 घायल
आपको बता दें कि आज उत्तर प्रदेश में आज़मगढ़ के पास औरेया में कैफियत एक्सप्रेस ट्रेन के इंजन सहित दस डिब्बे पटरी से उतर गए. इस हादसे में 74 लोगों के घायल होने की खबर है।

शनिवार को पटरी से उतरी थी कलिंगा उत्कल एक्स; 23 की गयी थी जान
इससे पहले बीते शनिवार को उत्तर प्रदेश में मुजफ्फरनगर के खतौली में कलिंगा उत्कल एक्सप्रेस के 12 डिब्बे पटरी से उतर गए थे। इस रेल हादसे में 22 लोगों की मौत हो गई थी. जबकि 97 से ज्यादा लोग घायल गंभीर रूप से घायल हो गए थे।कलिंगा उत्कल एक्सप्रेस पुरी से हरिद्वार जा रही थी। लेकिन शनिवार शाम 5.45 बजे खतौली-मुजफ्फरनगर में पटरी से उतर गई. इस ट्रेन हादसे के बाद रेलवे की बड़ी लापरवाही सामने आई थी।दरअसल जब ये हादसा हुआ उस वक्त पटरी पर काम चल रहा था।