इलाज की दरकार में महिला ने छोड़े प्राण,अस्पताल पर शव रख किया हंगामा,सीएमओ ने की ये कार्यवाही…

हरिद्वार/लालढांग।

लालढांग प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की लापरवाही के चलते एक गर्भवती महिला की प्रसव के बाद मौत हो गयी।जिस पर गुसाई ग्रामीणों ने लालढांग प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में शव को रखकर हंगामा किया। बाद में सीएमओ की कार्यवाही व आश्वासन के बाद मामला शांत हुआ।सोमवार को डालू पुरी निवासी समला (40)पत्नी महेन्द्र सिंह को प्रसब पीड़ा होना पर सुबह लालढांग प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में लाया गया। मौजूद एएनएम ने दवा देकर उन्हें वापस भेज दिया। मगर दर्द ज्यादा होने पर दोपहर को फिर हॉस्पिटल आ गए।जिनको बाद उसे एडमिट कर लिया गया। साय 7 बजे समला ने एक पुत्र को जन्म दिया। इस दौरान रक्त का स्राव बन्द नही हो पाया। आरोप है कि समला की हालत ज्यादा खराब होने लगी।समला के पति महेंद्र सिंह ने बताया कि रात 9.30 baje अस्पताल एमओ ने उन्हें जाने को कह दिया। ना तो अस्पताल वालो ने एम्बलेन्स के लिए फोन किया और ना ही कोई कर्मचारी इनके साथ आया। रात 10 बजे किराये का वाहन करके बारिश में समला को लेकर हरिद्वार महिला अस्पताल ले गए। महिला अस्पताल वाले ने भी समला को भर्ती करने से इनकार कर दिया।और इनको बेज्जत कर धक्के देकर भगा दिया।बाद में अन्य अस्पताल ले जाने की सोचते इससे पहले समला ने प्राण त्याग दिया।मंगलवार की सुबह गुसाये ग्रामीणों ने लालढांग स्वस्थ केंद पर शव को रख कर हंगामा शुरू कर दिया।मामले को बढ़ता देख शयामपुर थाना प्रभारी ओर सीओ प्रकाश चंद्र देवली मोके पर पहुंच मामले को शांत करने की कोशिश की मगर ग्रामीण कार्यवाही की मांग को लेकर अड़े रहे।बाद में सीएमओ अशोक गैरोला अस्पताल पहुंचे और मामले की जानकारी ली। सीएमओ ने तुरंत कार्यवाही करते हुए अस्पताल की दो एएनएम को सस्पेंड कर दिया।साथ ही अस्पताल पर जांच बैठने के आदेश दे दिया।मृतक समला छ: बेटियों के बाद पुत्र पैदा हुआ था।पाती मजदूरी करता के जबकि समला खुद हरिद्वार सिडकुल में एक फैक्ट्री में काम करती थीं। जहा एक ओर बच्चों के सिर से माँ का साया उठ गया वहीं दूसरी ओर परिवार के लिए आर्थिक संकट भी खड़ा हो गया है।