नैनीझील पर खतरा बरकरार,प्रतिदिन सवा इंच गिर रखा जल स्तर

नैनीताल (लोकेश पोखरियाल)।

वर्षाकाल में नैनी झील का जल स्तर 11.65 फिट घनात्मक था, इस बार झील में पानी की सुरक्षा की दृष्टि से बलिया नाले की ओर झील का गेट भी नहीं खोला गया। विगत तीन माह में झील का जल स्तर लगभग 6 फिट कम हुआ है जिसपर जिला प्रशासन, जनप्रतिनिधियों, पर्यावरणविदों, क्षेत्रीय जनता को चिन्ता है कि झील का पानी गतवर्ष की भाॅति कम ना हो, इसको लेकर जिलाधिकारी दीपेन्द्र कुमार चैधरी ने सिंचाई विभाग, जलसंस्थान, जलनिगम, नगरपालिका, लोक निर्माण के साथ बैठक कर जल संरक्षण संवर्द्धन हेतु विचार विमर्श किया व आवश्यक दिशा निर्देश दिये।
बैठक में अधिशासी अभियंता सिंचाई हरीश चन्द्र सिंह ने बताया कि झील का जलस्तर प्रतिदिन सवाइंच (1.25इंच) जलस्तर गिर रहा है। शीतकालीन वर्षा एवं अगर बर्षबारी नहीं हुयी तो झील का जलस्तर फरवरी माह में शून्य स्तर पर पहुॅच जायेगा जिससे झील में टीलें दिखने प्रारम्भ हो जायेंगे।
अधिशासी अभियंता जलसंस्थान सुनील तिवारी ने बताया कि 2016 से पूर्व नैनीझील से नैनीताल शहर को प्रतिदिन 16 से 20 घंटे पानी दिया जाता था जो लगभग 16एमएलडी था, लेकिन वर्ष 2015-16 में वर्षा, बर्फबारी, शीतकालीन वर्षा में कमी आयी व झील का स्वभाव ही बदल गया। उन्होंने बताया कि 2017की गर्मी में झील का जलस्तर लगभग 19 फिट ऋणात्मक चला गया जो गम्भीर विषय है।
जिलाधिकारी श्री चैधरी ने कहा कि नैनीझील जीवन दायिनी है झील से ही नैनीताल शहर का अस्तित्व है, इसके संरक्षण एवं संवर्द्धन कार्य आज से ही किये जाने की आवश्यकता है। नैनीझील के प्रतिदिन सवाइंच पानी कम होने को गम्भीरता से लेते हुये बैठक में निर्णय लिया गया कि शहर की जलापूर्ति की रोस्टिंग करके 6 से 8 घंटे प्रतिदिन कर दिया जाय। जिलाधिकारी ने नैनीताल शहर के होटल मालिकों, स्थानीय जनता व पर्यटकों से अपील की है कि वे पानी का किफायत से उपयोग करें व पेयजल से बागवानी आदि कतई ना करें, बागवानी आदि हेतु रेन वाटर हार्वेस्टिंग करें। साथ ही उन्होंने कहा कि शहरवासी अपने छतों का वर्षा जल सीवरेज से तुरंत हटायें। उन्हांेने प्रशासन के साथ ही नगरपालिका, जल निगम, जलसंस्थान को निर्देश दिये कि वे संयुक्त रूप से अभियान चलाकर शहर के सभी घरों के छतों का वर्षाजल सीवरेज से हटाने के निर्देश दिये। साथ ही उन्होंने अधिशासी अभियंता सिंचाई को निर्देश दिये कि वे शहर के बन्द नालियों की सफाई करायें तथा विलुप्त नालियों को पुर्ननिर्माण करने व नई नालियों की आवश्यकता अनुसार प्रस्ताव बनाकर प्रस्तुत करें। जिलाधिकारी ने स्थानीय जनता से अपील की है कि वे जहां पर भी पेयजल व सीवरेज लाइनें लीकेज देखते हैं तुरंत जलसंस्थान के कन्ट्रोलरूम नंबर-05942-235097 पर सूचना दें।
जिलाधिकारी ने आगामी 25 दिसम्बर क्रिसमसडे व न्यूईयर में पर्यटकों की भारी आमद को देखते हुये सड़क मार्गो में चल रहे आॅप्टिकल फायबर केबिल कार्य को 22 दिसम्बर से 2 जनवरी तक पूर्णरूप से बन्द करने के निर्देश दिये। साथ ही जो खुदाई से जो गड्डे बने हैं उन्हें भी तुरंत भरने के निर्देश दिये ताकि जनता व पर्यटकों केा अनावश्य परेशानी का सामना ना करना पड़े व दुर्घटना से भी बचा जा सके। उन्होंने पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिये कि आगामी 25 दिसम्बर क्रिसमसडे व न्यूईयर में ट्रैफिक व्यवस्था सुनिश्चित कर लें ताकि शहर में जाम ना लगने पाये। साथ ही उन्होंने क्षेत्रीय प्रबंधक रोडवेज को निर्देश दिये कि वे पुलिस अधिकारियों के साथ समन्वय करते हुये पर्याप्त शटल सेवा बसें लगायें जिससे पर्यटकों व जनता का आवागमन सुगमता से हो सके। बैठक में अधिशासी अभियंता पेयजल निगम रकमपाल सिंह,सहा0अभियंता जलसंस्थान डीएस बिष्ट, लोक निर्माण एससी पंत आदि मौजूद थे।