पर्यावरण एवं मानव उत्थान समिति ने किया पौधारोपण

हरिद्वार।

पर्यावरण दिवस के उपलक्ष में आज सोमवार को पर्यावरण एवं मानव उत्थान समिति द्वारा हरिद्वार के पंतद्वीप पार्किंग,दूधिया वन, रोडी बेल वाला आदि क्षेत्रों में वृहद स्तर पर पौधारोपण कर पर्यावरण को बचाने का संकल्प लिया गया। समिति के सदस्यों ने पौधारोपण के साथी इनके संरक्षण व संवर्धन का बीड़ा उठाया है। समिति ने 1000 पौधे पौधारोपण करने का संकल्प लिया है। जिसकी शुरुआत पर्यावरण दिवस से पूर्व की गई है। साथ ही सदस्यों ने पॉलिथीन के पूर्ण प्रतिबंध के लिए भी संकल्प लिया।
पर्यावरण एवं मानव उत्थान समिति के अध्यक्ष विनोद मिश्रा के नेतृत्व में प्रातः पंचदीप पार्किंग स्थित गंगा के तट बंद के किनारे पौधारोपण किया गया। इसी के साथ चमगादड़ टापू मैदान पर भी पौधारोपण किया गया,दूधिया बन में गंगा के किनारे व खुले मैदान में भी पौधे लगाए गए। सुबह से चले अभियान में करीब 200 पौधारोपण किए गए।
इस अवसर पर गृह मंत्रालय की एडवाइजरी कमेटी के सदस्य डॉ विशाल गर्ग ने कहा कि आज पूरे विश्व में जिस तरीके से ग्लोबल वार्मिंग हो रही है,उससे बचाव केवल और केवल वृक्ष ही कर सकते है।
रितेश अग्रवाल व राजेश अवस्थी ने कहा कि पेड़ मानव को जीवन देने का काम करते हैं,आज बिगड़ते पर्यावरण असंतुलन में आवश्यक है कि हम अधिक से अधिक पौधे लगाएं और उनका संरक्षण कर उन्हें एक बड़ा पेड़ बनाएं। आज विकास के नाम पर तेजी से हरे पेड़ों को काटा जा रहा है इसलिए आज पेड़ लगाने की आवश्यकता पहले से और अधिक बढ़ गई है।
समिति उपाध्यक्ष पंकज शर्मा ने पौधारोपण के साथ सभी साथियों से इनके संरक्षण का जिम्मा लेने की बात कही। उन्होंने कहा कि प्रत्येक सदस्य अपनी जिम्मेदारी के अनुरूप इन पौधों का संरक्षण करेगा तथा समय-समय पर इनकी निगरानी कर अपने बच्चे की तरह इनका पालन पोषण करेगा तभी आज लगाएं बीच का समाज को लाभ मिल पाएगा। डॉक्टर नीरज सिंघल ने लगातार हो रही पानी की समस्या पर ध्यान केंद्रित करते हुए कहा कि आज जिस तरीके से पानी का स्तर लगातार नीचे गिरता जा रहा है, इसके लिए आवश्यक है कि हम सिंचाई भूमि के आसपास, गंगा जी के आसपास अधिक से अधिक संख्या में पेड़ लगाएं। पेड़ों में शक्ति होती है कि वह पानी के गिरते जलस्तर को रोक सके। महामंत्री अमित शर्मा ने कहा कि हमें जीवंत पेड़ों का पौधारोपण करना चाहिए पीपल, पेड़,नीम,आम ऐसे पेड़ है जो अपनी विभिन्न उपयोगिताओं के साथ आम जनमानस और पर्यावरण के लिए बहुत उपयोगी होते हैं।हमें अधिक से अधिक संख्या में पीपल के पौधे लगाने चाहिए। पीपल सनातनियों का पूजनीय वृक्ष होने के साथ ही सर्वाधिक ऑक्सीजन देने वाला पेड़ है।इसी तरह वट वृक्ष भी पूजनीय के साथ हमें ऊर्जा देता है। सचिव विपिन गोस्वामी ने कहा आज पर्यावरण की दृष्टि से पॉलीथिन एक बड़ा अभिश्राप है ,इससे हमें बचना होगा। उन्होंने पॉलीथिन का प्रयोग न करने का संकल्प सभी साथियों को दिलाया। कोषाध्यक्ष दिनेश शर्मा ने कहा कि समिति का उद्देश्य बरसाती सीजन से पूर्व 1000 पौधारोपण करने का है। उन्होंने कहा कि हम पौधारोपण के साथ साथ टिकट लगाकर पौधों का संरक्षण भी करेंगे। सह कोषाध्यक्ष ठाकुर वीरेंद्र सिंह ने इस कार्य के लिए आम लोगों से सहयोग की अपील की उन्होंने बताया कि पौधारोपण के बाद उसके संरक्षण के लिए समिति ने कुछ सदस्य कुछ सदस्यों को चिन्हित किया है, जो प्रतिदिन पौधों में पानी खाद आदि देकर इनके संरक्षण का काम करेंगे।
इस मौके पर दीपक गोस्वामी, राजेश अवस्थी, प्रदीप अग्रवाल, अनिल चौहान, सोम अरोड़ा, विभा भटनागर, वर्षा रानी, राजेश कश्यप,अभिषेक गुप्ता,राजीव गुप्ता,रितेश अग्रवाल, मोहन उपाध्याय,संतोष डोलिया, संगीत मदान,नवीन मदान, संजय अग्रवाल,पंकज अवस्थी, दीपक शर्मा, सुनील चतुर्वेदी आदि मुख्य रूप से उपस्थित थे।