आईएएस दंपति ने अपने बच्चे का आंगनबाड़ी में दाखिला कराया

 

चमोली जिलाधिकारी ने आधुनिक शिक्षा के बाजारीकरण ओर प्राइवेट स्कूलों वाले स्टेटस सिम्बल को दरकिनार कर अपने 2 वर्ष के बेटे का दाखिला आंगनबाड़ी में कराकर मिसाल पेश की है।
चमोली जिले की जिलाधिकारी स्वाति भदौरिया और उनके आईएएस पति नितिन भदौरिया ने अपने दो साल के बेटे अभ्युदय का दाखिला किसी प्राइवेट नर्सरी स्कूल के बजाय गोपेश्वर नगर के ही आंगनबाड़ी केंद्र में करवाया है।
मंगलवार को जिलाधिकारी आंगनबाड़ी केंद्र पहुंची। उन्हें आंगनबाड़ी केंद्र में देख कर पहले तो आंगनबाड़ी कार्यकत्री घबरा गई, लेकिन जब जिलाधिकारी ने कार्यकत्री को बताया कि वो अपने बच्चे का दाखिला कराने आई है तो सभी हैरान रह गए। आंगनबाड़ी कार्यकत्री ने तत्काल बच्चे का दाखिला कर लिया।
डीएम स्वाति भदौरिया का कहना है कि लोग सरकारी स्कूलों से मुंह मोड़ रहे. जिससे सरकारी स्कूलों में छात्रों की संख्या लगातार कम होती जा रही है। ऐसे हालत में सरकारी स्कूलों को बंद करना पड़ रहा है। जिसकों देखकर उन्होंने अपने 2 साल के बच्चे का दाखिला आंगनबाड़ी में करवाया है,ताकि आम लोगों को भी केंद्र सरकार की इस योजना का पता चल सके.