जूना अखाडा ने संतो की हत्या के मामले में सीबीआई जांच की मांग की 

हरिद्वार।
श्रीपंचदशनाम जूना अखाड$ा ने नगर विकास मंत्री के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन देकर महाराष्ट्र में जूना अखाड$ा के दो संतो की निर्मम हत्या के मामले की सीबीआई जांच कराने तथा दोषियों के खिलाफ त्वरित कारवाई की मांग की है। नगर विकास मंत्री ने आश्वासन दिया है कि राज्य सरकार द्वारा इस मामले में हर संभव कार्रवाई की जायेगी। रविवार को मायापुर स्थित जूना अखाड$ा परिसर पहुचें प्रदेश के नगर विकास मंत्री मदन कौशिक को ज्ञापन सौपते हुए जूना अखाडा के संतो ने मांग की है कि मामले में त्वरित कारवाई की जाये। श्रीपंचदशनाम जूना अखाड$ा के अन्र्तराष्ट्रीय संरक्षक महंत स्वामी हरिगिरि तथा अन्र्तराष्ट्रीय अध्यक्ष महंत प्रेमगिरि के नेतृत्व में संतो ने नगर विकास मंत्री को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में कहा गया है कि गत 16अप्रैल को जूना अखाड$े के दो संत ७० वर्षीय कल्पवृक्ष गिरि तथा 35वर्षीय सुशील गिरि अपने ड्राइवर के साथ मुम्बई से गुजरात के सूरत अपने गुरू महंत रामगिरि के अन्तिम संस्कार में शामिल होने जा रहे थे। कि महाराष्ट्र के पालघर जिले के कासा थाना के गढचिंचले गांव के पास करीब दो सौ लोगों के समूह ने निर्मम तरीके से रॉड,डण्डे,लाठी आदि से पीट-पीटकर हत्या कर दी। हत्यारों ने संतो के पास से पचास हजार की नगदी के अलावा सोने की भगवान की मूर्ति भी लूट ली। पुलिस बलों की मौजूदगी में हुई इस हत्याकाण्ड के दौरान पुलिस ने बचाने का कोई प्रयास नही किया। अगर हमलावर ज्यादा थे,तो पुलिस हवाई फायंिरग कर बचा सकती थी। लेकिन पुलिस मूकदर्शक बनी रही। जो  कि अत्यंत शर्मनाक और हतप्रभ करने वाली है। संतो की हत्या को लेकर देशभर के जूना अखाड$े के संतो में व्यापक रोष है। ज्ञापन में प्रदेश के मुख्यमंत्री से मांग की गई है कि वो अपने स्तर से महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री तथा केन्द्रीय गृहमंत्री से वार्ता कर मामले की सीबीआई जांच के सम्बन्ध में त्वरित कार्रवाई करे। नगर विकास मंत्री ने ज्ञापन लेते हुए कहा कि संतो की हत्या निन्दनीय है। इस सम्बन्ध में पूर्व में भी सरकार द्वारा केन्द्रीय गृहमंत्री को अवगत कराकर जांच के सम्बन्ध में अनुरोध कर चुकी है। साथ ही आश्वस्त किया कि प्रदेश सरकार इस मामले में हर संभव कदम उठाते हुए महाराष्ट्र सरकार तथा केन्द्रीय गृहमंत्री से वार्ता कर मामले की सीबीआई जांच के सम्बन्ध में हर संभव प्रयास करेगी। ज्ञापन देने वालों में जूना अखाड$ा के सचिव महंत महेशपुरी सहित कई अन्य संत शामिल थे।
-—-—-—-—-—-—-—