राज अरोडा का ब्यान मजदूरो का शोषण उत्पीडन करने वाला : राजपूत

हरिद्वार।
 सिडकुल के उद्यमियों द्वारा बगैर काम के इंडस्ट्री कामगारों को वेतन नहीं दिए जाने की बात पर उत्तराखंड क्रांति दल ने गहरी नाराजगी व्यक्त की है। यूकेडी के जिलाध्यक्ष राकेश राजपूत ने कहा कि सिडकुल मैन्युफैक्चर्स एसोसिएशन के महासचिव राज अरोडा द्वारा गुरुवार को जिस प्रकार का बयान दिया गया है वह मजदूर हितों का विरोधी तथा शोषण उत्पीडन करने वाला बयान है। उन्होंने कहा कि यदि उद्योग इस प्रकार मजदूरों का शोषण और उत्पीडन करेंगे तो उक्रांद लॉकडाउन समाप्त होने के बाद इनके विरुद्ध आंदोलन करेगा। बताया कि राज अरोडा द्वारा गुरुवार को वीडियो कन्फ्रेंसिंग के जरिए कहा था कि संकट में चल रही औद्योगिक इकाइयों को राज्य सरकार के पास उपलब्ध हजारों करोड के रिजर्व फंड से भुगतान करने में सहयोग करना चाहिए, उनका कहना था कि सरकार मदद करेंगी तभी इकाइयां आगे कामगारों को मदद कर सकेंगी। बिना काम के वेतन नहीं दिया जा सकता। मजदूर दिवस पर जिला अध्यक्ष राकेश राजपूत ने कहा है कि यह वही मजदूर हैं जिनके कंधों का इस्तेमाल कर औद्योगिक इकाइयों ने विगत 20 वर्षों में करोड़ो अरबों रुपए की कमाई की है। वहीं सरकार द्वारा भी उद्योगों को कर सहित कई विशेष प्रकार की छूट दी गई है। लेकिन आज जब अचानक मजदूरों के सामने यह अप्रत्याशित संकट आ खडा हुआ है, तो एसे में उद्योगों द्वारा अभिभावक की भूमिका ना निभाते हुए शोषक की भूमिका में आकर मजदूरों को वेतन न दिए जाने की घोषणा करना अत्यंत निंदनीय है। सिडकुल के उद्यमियों द्वारा बगैर काम के इंडस्ट्री कामगार को वेतन नहीं दिए जाने की बात पर उत्तराखंड क्रांति दल ने गहरी नाराजगी व्यक्त की है। कहा कि आज जब अचानक मजदूरों के सामने यह अप्रत्याशित संकटा खडा हुआ है तो एसे में जब अभिभावक की भूमिका न निभाते हुए शोषक की भूमिका में आकर मजदूरों को वेतन न दिए जाने की घोषणा करना अत्यंत निंदनीय है। उन्होंने यह भी कहा कि मई दिवस के एक दिन पूर्व जिस प्रकार का बयान सिडकुल मैन्युफैक्चर्स के महासचिव राज अरोडा द्वारा दिया गया यह अत्यंत निंदनीय है उनकी सोच को दर्शाता है कि उद्योगपति आज भी मजदूरों के हित में नहीं बल्कि उनका शोषण कर रहे हैं।
-—-—-—-—-—-—-—-—-—-