जिला उपभोक्ता फोरम ने बीमा कंपनी को बीमा पलिसी का लाभ नही देेने पर लापरवाही करने का दोषी पाया

हरिद्वार।
जिला उपभोक्ता फोरम ने बीमा कंपनी को बीमा पलिसी का लाभ नही देेने पर लापरवाही करने का दोषी पाते हुए । फोरम ने बीमा कंपनी को बीमित सामान के नुकसान की शेष कीमत 382674 रुपये छह प्रतिशत वार्षिक ब्याज की दर से व अधिवक्ता फीस 40 हजार और मानसिक व आर्थिक क्षतिपूर्ति के रूप में 70 हजार रुपये अदा करने के आदेश दिए हैं।
शिकायतकर्ता प्रबंधक दी गो ग्रोन बिल्डटेक प्राइवेट लिमिटेड हापुड उप्र ने द रिलायंस जनरल इंश्योरेंस कंपनी देहरादून व उसके मुख्य कार्यालय मुंबई और स्थानीय शाखा प्रबंधक पीएनबी रानीपुर मोड हरिद्वार के खिलाफ एक शिकायत फोरम में दायर की थी। शिकायतकर्ता प्रबंधक सिताब सिंह ने बताया था कि वह ईंट, एल्युमिनियम, खिडकी व दरवाजे बनाने का कार्य करते हैं। उन्होंने बीमा कंपनी से उक्त फर्म की पॉलिसी कराई हुई थी। वर्तमान में बीमा पॉलिसी की किश्त 9932 रुपये स्थानीय बैंक में जमा कर अदा कर चुका है। इससे पूर्व पहली बीमा पॉलिसी की अवधि पूरी हो चुकी थी। दिसम्बर 2018 में फर्म के प्रांगण में आग लग गई थी। जिस पर वहां रखा सामान जल कर नष्ट हो गया था। शिकायतकर्ता ने उसी दौरान बीमा कंपनी के प्रतिनिधि को सूचना दे दी थी। कम्पनी के सर्वेयर ने मौके पर जांच कर करीब 15 लाख रुपये का नुकसान की रिपोर्ट दी थी। इसके बाद बीमा कंपनी ने शिकायतकर्ता को 996916 रुपये बतौर पॉलिसी बीमित धनराशि अदा की। लेकिन बीमा कंपनी ने शेष धनराशि 382674 रुपये कटौती की बात कहकर नही दिए थे। शिकायतकर्ता ने बीमा कंपनी से शेष बीमा राशि की मांग की। जिस पर बीमा कंपनी ने कोई संतोषजनक कार्यवाही व जवाब नहीं दिया था। थक हारकर शिकायतकर्ता ने फोरम की शरण ली थी। शिकायत की सुनवाई करने के बाद फोरम अध्यक्ष कंवर सैन व सदस्यों ने बीमा कंपनी को उपभोक्ता सेवा में कमी व लापरवाही करने का दोषी पाया है।