अकाली दल (अ) के पदाधिकारियों को पुलिस ने रोका, तहसीलदार को सौंपा ज्ञापन

हरिद्वार। (राहुल चौरसिया)
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष  जेपी नड्डा का विरोध करने जा रहे शिरोमणि अकाली दल (अ) के पदाधिकारियों को पुलिस ने सराय के पास रोक दिया। यहां तहसीलदार व सीओ पथरी ने जत्थे में शामिल लोगों से वार्ता की। प्रधानमंत्री के नाम एक ज्ञापन तहसीलदार सौंपा।
शुक्रवार को पथरी के दिनारपुर से शिरोमणि अकाली दल (अ) का एक जत्था किसानों के आंदोलन को समर्थन के साथ ही कई मांगों को लेकर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का काले झंडे दिखाकर विरोध करने के लिए निकला विरोध के साथ ही प्रधानमंत्री के नाम एक ज्ञापन नड्डा को सौंपने की तैयारी थी। लेकिन जैसे ही अकाली दल का जत्था सराय के पास आशियाना होटल के समीप पहुंचा तो भारी पुलिस बल के साथ ही प्रशासन की टीम ने यहीं पर ही इन्हें रोक दिया। इसके बाद आशियाना होटल में अकाली दल के पदाधिकारियों के साथ तहसीलदार आशीष घिल्डियाल, सीओ पथरी राजन सिंह, पथरी एसओ सुखपाल सिंह मान ने वार्ता की। दल के प्रदेश अध्यक्ष जगजीत सिंह जग्गा ने कहा कि कृषि विधेयक को जल्द से जल्द रद्द किया जाए। किसानों के प्रति  आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले उत्तराखंड भाजपा प्रदेश प्रभारी सार्वजनिक रूप से माफी मांगे। अकाली दल की ओर से चलाए जा रहे किसान संयोग अभियान को दिल्ली में धरने पर बैठे किसानों के लिए निरंतर भोजन व्यवस्था करने के लिए अनुमति दी जाए। जिलाध्यक्ष सुबा सिंह ढिल्लो ने कहा कि पथरी थाना क्षेत्र में पुलिस की लापरवाही से एक किसान ने बीते एक दिसंबर को आत्महत्या कर ली थी। इस मामले में एसआईटी गठित कर जांच करवाई जाए। थाने के पुलिस कर्मियों को निलंबित करने की कार्रवाई की जाए। मृतक किसान के परिवार को 50 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाए। ऋषिकेश अध्यक्ष परमजीत सिंह ने कहा कि अकाली दल के सदस्यों बेवजह पुलिस की ओर से प्रताड़ित किया जाता है। जब भी कोई कार्यक्रम आयोजित करते हैं तो कार्रवाई कर दी जाती है। अगर कार्यक्रम से कोई आपत्ति है तो डीएम ने एसडीएम को  हमारी समस्याओं को सुनना चाहिए। लेकिन ऐसा नहीं किया जा रहा है। जिससे सिख समाज में आक्रोश पनप रहा है। विरोध करने वालों में मनजीत सिंह, जसकरण सिंह खालसा, जसप्रीत सिंह, श्रवण सिंह, हीरा सिंह, शेर सिंह, जत्थेदार बलदेव सिंह आदि शामिल थे।