शांतिकुंज ने सप्तऋषि एवं भोपतवाला क्षेत्र में बाँटे कम्बल

हरिद्वार । संवाददाता
इन दिनों पूरा उत्तर भारत ठंड की ठिठुरन की चपेट है। पहाड़ के साथ मैदानी क्षेत्र में भी पिछले कई दिनों से अधिक पारा गिरा हुआ दर्ज हो रहा है। इस कारण लोगों को अत्यधिक ठंड के बीच समय बताना पड़ रहा है। ऐसे में पीड़ित मानवता के प्रति हृदय की गहराई से अपनी सहानुभूति रखनी वाली शांतिकुंज की अधिष्ठात्री शैलदीदी ने गरीबों एवं जरूरतमंदों के बीच ठंड से बचाव हेतु कंबल वितरित करने का निर्णय लिया।
शांतिकुंज अधिष्ठात्री शैलदीदी ने कहा कि गायत्री परिवार अपने आराध्य पण्डित श्रीराम शर्मा आचार्यजी द्वारा बताये गये सूत्र- पीड़ित मानवता की निःस्वार्थ भाव से की सेवा-सहयोग ईश्वर आराधना समान है। इसमें अपनी क्षमता के अनुरूप कार्य करते रहना चाहिए। शांतिकुंज इस दिशा में अपनी स्थापना काल से ही पीड़ितों व जरूरतमंदों की सेवा-सुश्रुषा करता आ रहा है।
मौसम विभाग के अनुसार आने वाले दिन में और अधिक ठंड पड़ने के आसार है। इसे देखते हुए गायत्री परिवार प्रमुखद्वय डॉ. प्रणव पण्ड्या व शैलदीदी ने गरीबों व जरूरतमंदों के बीच कंबल बाँटने हेतु अपनी टीम को निर्देशित किया। तत्क्षण टीम द्वारा सर्वे कर सप्तऋषि एवं भोपतवाला क्षेत्र के उन गरीबों को जिन्होंने बिना गरम कपड़ों के रात गुजारने को मजबूर थे, उनके बीच देर रात आवश्यकतानुसार कंबल बाँटे। इसके पीछे एक मकसद एक ही था कि जरूरतमंद तक सीधे कंबल पहुंचाना।
टीम के दलनायक नरेन्द्र ठाकुर ने बताया कि विगत कई दिनों से रात को ९ बजे कंबल लेकर चिह्नित क्षेत्र में टीम पहुंचती है और जरूरतमंद लोगों में कंबल वितरित कर रात्रि के एक बजे तक वापस शांतिकुंज आ जाती है। हम लोग अब तक चार सौ से अधिक लोगों तक कंबल पहुंचा चुके हैं। गायत्री परिवार प्रमुखद्वय डॉ साहब नेे समय-समय पर यह क्रम आगे भी जारी रहेगा। देर रात्रि भारतमाता मंदिर, राठी चौक, खड़खड़ी, सर्वानंद घाट, सूखी नदी, पावनधाम से लेकर ठोकर नं १ से १८ तक सेवा कार्य हेतु गयी टीम में संतोष सिंह, अरुण तोमर, गोपाल शर्मा, प्रेम साहू, दीपक, अश्विनी आदि शामिल रहे।