साइबर प्रभारी की तत्परता से 1 लाख की रकम बची

चन्द्रशेखर जोशी
हरिद्वार।
रानीपुर कोतवाली क्षेत्र में रहने वाले व्यक्ति के पास किसी अनजान नंबर ने रिश्तेदार बनकर बैंक अकाउंट से एक लाख की रकम पेटीएम कर उड़ा दी। पीडित ने रकम बैंक अकाउंट से निकलने की जानकारी लगते ही पुलिस को सूचित किया। साइबर सेल प्रभारी निरीक्षक ने मामले की गंभीरता को देखते हुए तत्काल पेटीएम नोडल अधिकारी से संपर्क कर रकम को होल्ड में डलवा कर ट्रांसफर होने से रुकवा दिया और वापस पीडि$त के बैंक के अकाउंट में डलवाया गया। साइबर सेल प्रभारी की तत्परता से एक लाख की ठगी करने में आरोपी सफल नहीं हो पाया। ठगी करने वाले के विरुद्ध कानूनी शिकंजा कसा जा रहा है।
रानीपुर कोतवाली अंतर्गत शिवालिक नगर में रहने वाले राजेंद्र प्रसाद बडोनी के पास एक अनजान नंबर से काल आयी और उसने अपने को रिश्तेदार बताते हुए कुछ पैसों की जरूरत बताई। दूर का रिश्ता होने की वजह बडोनी को समझ में नहीं आया रिश्तेदार कौन है पर परेशानी में होने की बात सुनकर उनका दिल पसीज गया। आखिर उन्होंने अपने बैंक अकाउंट का नंबर उन्हें दे दिया। फोन करने वाले ने पेटीएम के माध्यम से उनके बैंक अकाउंट से एक लाख रुपए की ट्रांसफर कर ली। बैंक से रकम निकलने का मैसेज आने पर राजेंद्र प्रसाद बड$ोनी के कान खड$े हो गए। तत्काल बैंक मैनेजर से संपर्क किया तो उसने बताया कि रकम पेटीएम के माध्यम से निकाली गई है। बैंक मैनेजर से जानकारी मिलते ही पुलिस से संपर्क किया। पुलिस ने साइबर क्राइम सेल प्रभारी निरीक्षक हरपाल सिंह के पास भेजा। साइबर सेल प्रभारी ने मामले की गंभीरता को देखते हुए पीडि$त से जानकारी लेने के बाद पेटीएम के नोडल अधिकारी से संपर्क कर पेटीएम के माध्यम से ट्रांसफर की गई एक लाख की रकम को होल्ड में डलवा कर वापस पीडि$त के बैंक खाते में डलवाने की प्रक्रिया की गई। पीडि$त राजेंद्र बडोनी ने बैंक खाते से निकाली गई एक लाख की रकम वापस मिल जाने पर राहत की सांस ली। पुलिस का तहेदिल से शुक्रिया अदा किया। साइबर सेल प्रभारी निरीक्षक ने बताया कि पीडि$त से ठगी गई रकम वापस करवा दी गई है अब ठगी करने वाले की तलाश की जा रही है ताकि भविष्य में वह किसी दूसरे को अपना शिकार न बना सके।