हाथियों ने रौंदी गेहूं की फसल वन विभाग कर रहा अनदेखी

सम्वाददाता
हल्द्वानी।

जंगली हाथियों का आतंक लगातार बढ़ता ही जा रहा है। हाथियों के आतंक के चलते कई ग्रामीण इलाकों में काश्तकार दहशत के माहौल में हैं। वहीं, ताजा मामला रविवार देर रात का है। हाथियों के झुंड ने गौलापार के सुंदरपुर रैक्वाल गांव में एक काश्तकार की ढाई एकड़ गेहूं की फसल रौंद दी।
बता दें कि, हाथियों का झुंड जंगल से निकल एक किलोमीटर अंदर गांव तक पहुंच गया। हाथियों ने गेहूं की फसल को बर्बाद कर दिया। ऐसे में किसानों ने हाथियों के आतंक से निजात दिलाने की वन विभाग से गुहार लगाई है।
सुंदरपुर रैक्वाल की ग्राम प्रधान उमा रैक्वाल ने बताया कि रविवार रात हल्की बारिश होने की वजह से काश्तकार खेतों की सुरक्षा के लिए घर से नहीं निकले। ऐसे में हाथियों के झुंड ने देर रात जंगल से निकलकर किसान संजय पौडियाल के खेतों में जमकर उत्पात मचाते हुए गेहूं की खड़ी फसल को नुकसान पहुंचाया।
ग्रामीणों का कहना है कि पूर्व में कई बार गुहार लगाने के बावजूद वन विभाग के अधिकारी मामले को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं, और हाथियों को जंगल से आने से नहीं रोक पा रहे हैं। ऐसे में फसलों के साथ-साथ हाथी इंसानों के ऊपर भी हमला बोल रहे हैं। ऐसे में अब जान माल का खतरा भी बना हुआ है।
ग्रामीणों का कहना है कि इसको लेकर कई बार वन विभाग के अधिकारियों को ज्ञापन भी दे चुके हैं, लेकिन वन विभाग इसे अनदेखा कर रहा है। उन्होंने कहा कि अगर जल्द वन विभाग हाथियों से निजात नहीं दिला पाता है तो उन्हें उग्र आंदोलन करना पड़ेगा।