शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के ज्योषितपीठ पर आसन्न होने के 50 वर्ष पूरे होने पर स्वर्ण ज्योति महोत्सव आयोजित, 50 विभूतियों को किया सम्मनित

हरिद्वार(अमित शर्मा)।
स्वर्ण ज्योति महोत्सव का आयोजन धर्म नगरी हरिद्वार में शंकराचार्य मटकी आयोजित किया गया इस अवसर पर विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय उपलब्धि धारकों को स्वर्ण ज्योति सम्मान से नवाजा गया। धर्म ,संस्कृति ,साहित्य, शिक्षा ,चिकित्सा , प्रशासनिक एवं साहित्य के क्षेत्र में योगदान देने वाली 50 प्रतिभाओं का सम्मान ज्योतिष पीठ के स्वामी स्वरूपानंद के प्रतिनिधि स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने किया ।
उल्लेखनीय है कि ज्योतिष पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती के ज्योतिष पीठ के आचार्य पद पर अभिषिक्त हुए 50 वर्ष पूर्ण हुए ।इसी परिपेक्ष में देश के 50 शहरों में स्वर्ण ज्योति महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। धर्मनगरी हरिद्वार में रविवार को यह आयोजन किया गया, जिसमें 50 लोगों का सम्मानित किया गया। सम्मानित होने वाली प्रमुख हस्तियों में जयराम आश्रम की ब्रहम स्वरूप ब्रह्मचारी, नगरपालिका के पूर्व अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी, प्रशासनिक क्षेत्र में कुंभ मेला अधिकारी दीपक रावत को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने कहा की उत्तराखंड से स्वर्ण ज्योति कलस को देश भर में आयोजित होने वाले सभी कार्यक्रमों में ले जाया जाएगा । उन्होंने कहा की इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य सनातन धर्म का प्रचार प्रसार करना है । उन्होंने इस दौरान सम्मानित होने वाली सभी प्रतिभाओं को बधाई देते हुए कहा कि वे समाज में इसी तरह उल्लेखनीय कार्य करते रहें । इस दौरान जिलाधिकारी दीपक रावत ने भी सभी सम्मानित को शुभकामनाएं दी तथा कहा कि कुंभ पर्व का सफल आयोजन उनकी प्राथमिकताओं में होगा। कहा यह कार्य संतों के आशीर्वाद से संभव हो पाएगा । इस अवसर पर गंगोत्री मंदिर समिति के अध्यक्ष सुरेश सेमवाल ,यमुनोत्री मंदिर के कृतेश्वर उनियाल, राजेश सेमवाल , सच्चिदानंद सेमवाल ,डीएम गौड, नितेश ,उमेश,महंत प्रेमां नंदगिरी, स्वामी मुक्ता नंद, स्वामी शरणानंद स्वामी सहजानंद स्वामी रामानंद उपस्थित थे ।कार्यक्रम का संचालन वरिष्ठ पत्रकार डा बृजेश सती ने किया।
कार्यक्रम को ज्योतिष पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने फेसबुक लाइव के माध्यम से संबोधित किया । उन्होंने स्वर्ण ज्योति सम्मान से सम्मानित सभी लोगों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि वे इसी तरह के उल्लेखनीय कार्य करते रहें, ताकि अन्य भी उनसे प्रेरणा लें ।उन्होंने कहा कि ज्योतिष पीठ की ज्योति का प्रकाश संपूर्ण विश्व में फैले।

कार्यक्रम से पूर्व गंगोत्री के शीतकालीन पूजा स्थल मुखवास एआई गंगा स्नान ज्योति कलश को भी गंगोत्री मंदिर समिति के पदाधिकारियों ने स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती को सौंपा ज्योति कलश देशभर में आयोजित होने वाले 50 कार्यक्रमों में चलेगी