जूना आखाड़े की नाराजगी के बाद चेता मेला प्रशासन, व्यवस्था बनाने में जुटे अधिकारी

हरिद्वार(सम्वाददाता)।

उप कुम्भमेला अधिकारी अंशुल सिंह, दयानन्द सरस्वती, किशन सिंह नेगी ने आज जूना अखाड़ा के अध्यक्ष, श्री महन्त प्रेम गिरी एवं सचिव श्री महेश पुरी के साथ गुजरांवाला भवन के निकट ललतारांे पुल एवं ज्वालापुर स्थित प्राचीन सिद्धपीठ पाण्डेय वाला का कुम्भ की व्यवस्थाओं की दृष्टि से निरीक्षण किया।
सर्वप्रथम निरीक्षण के दौरान गुजरांवाला भवन के निकट ललतारांे पुल के नीचे की एरिया का निरीक्षण किया गया। जूना अखाड़ा के अध्यक्ष श्री महन्त प्रेम गिरी ने अधिकारियों को बताया कि पुल के नीचे जो काफी सिल्ट जमी है, उसे हटाया जाये, आसपास जो झाडियां उगी हैं, उन्हें साफ किया जाये। इस पर उप मेलाधिकारियों ने मौके पर मौजूद नगर निगम, पी0डब्ल्यूडी0 के अधिकारियों को पुल के नीचे की सिल्ट पुल की नींव का ध्यान रखते हुये, हटाने के निर्देश दिये, जिस पर तुरन्त कार्य भी प्रारम्भ हो गया। उप मेला अधिकारियों ने पुल के आसपास पानी की निकासी, साफ-सफाई, झाड़ियों की कटाई आदि कार्य करने के निर्देश सम्बन्धित विभागों के अधिकारियों को दिये।
तत्पश्चात अधिकारियों एवं जूना आखाड़ा के पदाधिकारियों ने ज्वालापुर स्थित प्राचीन सिद्धपीठ पाण्डेय वाला का निरीक्षण किया। श्री महन्त प्रेम गिरी ने मौके पर अधिकारियों को बताया कि सिद्धपीठ परिसर में चारों तरफ लाइट की व्यवस्था होनी चाहिये, इस पर अधिकारियों ने नगर निगम के अधिकारियों को निर्देश दिये कि कल तक लाइट की व्यवस्था हो जानी चाहिये।
श्री महन्त प्रेम गिरी ने अधिकारियों को प्राचीन सिद्धपीठ परिसर में पानी की उचित व्यवस्था, जहां पण्डाल लगाया जाता है, वहां पर सफाई की व्यवस्था, शौचालयों का निर्माण आदि के बारे में बताया। इस पर अधिकारियों ने मोबाइल शौचालय स्थापित करने, साफ-सफाई की व्यवस्था, पुराने शौचालयों की मरम्मत, नये शौचालयों का निर्माण तथा उनमें पानी आदि की उचित व्यवस्था, गेट पर रैम्प का निर्माण आदि कार्य यथाशीघ्र करने के निर्देश अधिकारियों को दिये।
इस मौके पर अधिकारियों ने डीएसओ को कुम्भ के मद्देनजर सभी आवश्यक सामग्री की आपूर्ति प्रथम प्राथमिकता के आधार पर करने के निर्देश दिये।
इस अवसर पर श्री दीपक कुमार, एक्सियन, पी0डब्ल्यूडी0, श्री हरीश पांगती, अधीक्षण अभियन्ता, तकनीकी प्रकोष्ठ, कुम्भ मेला, श्री विनोद कुमार, सहायक नगर आयुक्त, श्री मंजीत सिंह, तहसीलदार-कुम्भ, श्री ललित बिष्ट, सहायक अभियन्ता, पी0डब्ल्यूडी0 श्री के0के0 अग्रवाल, डी0एस0ओ0, जूना अखाड़ा के श्री कोठारी, श्री लाल भारती, श्री रणधीर गिरी, श्री विवेकपुरी, श्री राजेन्द्र गिरी सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारी मौजूद थे।
……………………………