व्यापार मंडल ने की मांग,कुंभ गाइड लाइन में हो संशोधन

हरिद्वार(अमित शर्मा)।

महाकुंभ पर्व 2021 हरिद्वार को लेकर केंद्र सरकार ने जो गाइडलाइन जारी की है। जिसमें स्नान करने आने वाले श्रद्धालुओं को 72 घंटे पूर्व की करोना नेगेटिव की रिपोर्ट तथा 65 वर्ष से ऊपर आयु वाले श्रद्धालुओं को ना आने की सलाह दी गई है। उसके विरोध में आज शहर व्यापार मंडल संबंध प्रांतीय उद्योग व्यापार प्रतिनिधिमंडल के एक प्रतिनिधिमंडल ने शहर अध्यक्ष कमल बृजवासी के नेतृत्व में एसडीएम गोपाल सिंह चौहान के माध्यम से देश के प्रधानमंत्री के नाम एक ज्ञापन दिया।

ज्ञापन मे केंद्र सरकार द्वारा जारी की गाइड लाइन पर पुनर्विचार करने का आग्रह किया गया है। व्यापारियों की भावनाओं को रखते हुए शहर महामंत्री प्रदीप कालरा और राजीव पाराशर ने कहा की महाकुंभ पर्व हिंदू समाज का सबसे भव्य और विराट आयोजन होता है। जिस को नियंत्रित करने की प्रयास में हिंदू समाज की आस्थाओं पर चोट पहुंचेगी। वर्तमान में भी उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद शहर में विश्व प्रसिद्ध माघ मेला बिना किसी गाइडलाइन के निर्बाध संपन्न हो रहा है। तो हरिद्वार महाकुंभ को नियंत्रित करने के लिए गाइडलाइन जारी किया जाना तर्क सम्मत नहीं होगा।

शहर उपाध्यक्ष नागेश वर्मा और युवा महामंत्री विक्की आडवाणी ने कहा कि विगत 18 माह से हरिद्वार का व्यापारी आर्थिक विषमताओं के चलते हुए लगातार संघर्ष कर रहा है और उसको आने वाले कुंभ पर्व से बहुत आशाएं हैं परंतु इस प्रकार से कुंभ मेले को गाइडलाइन की बाध्यता ओं में बांधकर व्यापारी की समस्त आशाओं पर तुषारा पात हो जाएगा और उसके समक्ष अपना व अपने परिवार का भरण पोषण करना असंभव सा हो जाएगा ।हरिद्वार का शहर व्यापार मंडल प्रधानमंत्री जी से इस गाइडलाइन को संशोधित करने की मांग करता है। जिसमें कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट और 65 वर्ष वाले श्रद्धालुओं के आने पर किसी प्रकार की कोई रोक नहीं होनी चाहिए। शहर कोषाध्यक्ष अमित गुप्ता और शहर उपाध्यक्ष सत्येंद्र झा ने कहा की कुंभ में आने वाला श्रद्धालु बेहद अनुशासित और व्यवस्थाओं को मानने वाला होता है। वह मास्क और सैनिटाइजर की सुचारू व्यवस्था के साथ स्नान करने आए। इसके लिए हरिद्वार का व्यापार मंडल प्रशासन का हर सहयोग करने के लिए तैयार है पर आने वाला श्रद्धालु आ ही ना पाए यह स्वीकार नहीं होगा।प्रतिनिधिमंडल में मुख्य रूप से गौरव सचदेवा, गोपाल प्रधान, मनोज राणा, राजेश खुराना, नवीन सेंस, वेद अरोड़ा, रवि चौहान, अर्चित चौहान, सरदार इकबाल सिंह, गिरीश भाटिया, आशीष झा, मोहित आदि प्रमुख रूप से उपस्थित थे।

एसडीएम को ज्ञापन देते व्यापरी