यूपी बोर्ड में धांधली रोकने के लिए मिला ‘आधार’

-नए शैक्षिक सत्र में कक्षा नौ व 11 के ऑनलाइन पंजीकरण के फार्म में आधार का नंबर देना अनिवार्य

लखनऊ।(आशीष सिंह)
यूपी बोर्ड के विद्यालयों में दाखिला पाने में फर्जीवाड़ा अब नहीं हो सकेगा। नकल माफिया जिन माध्यमों से चहेतों को दाखिला दिलाने में सफल हो जाते हैं, उन्हें एक-एक करके बंद किया जा रहा है। बोर्ड अब आधार कार्ड के जरिये फर्जीवाड़े पर प्रभावी अंकुश लगाने जा रहा है।
नए सत्र में छात्र-छात्रओं को प्रवेश देने के साथ ही इस पर अमल शुरू होना है। माध्यमिक शिक्षा परिषद यानी यूपी बोर्ड में नकल माफिया का खेल चहेते छात्र-छात्रओं को दाखिला दिलाने के साथ ही शुरू हो जाता है। इसके लिए सबसे मुफीद कक्षा नौ व 11 में प्रवेश दिलाना माना जाता है। ऑनलाइन पंजीकरण के जरिये छात्र आसानी से प्रवेश पा जाते हैं। दाखिले के बाद भी नकल माफिया अपने मनमुताबिक परीक्षा केंद्र बनवाने का प्रयास करते हैं ताकि उनके चहेते अच्छे अंकों से परीक्षा की वैतरणी पार कर जाएं। यूपी बोर्ड प्रशासन ऐसे फर्जीवाड़े पर नजरें गड़ाए है और लगातार इसे रोकने के पुख्ता इंतजाम हुए और काफी हद तक सफलता भी मिली है। उससे एक कदम आगे बढ़ाते हुए प्रशासन इस पर मंथन कर रहा है कि जुलाई से शुरू हो रहे नए शैक्षिक सत्र में कक्षा नौ व 11 के ऑनलाइन पंजीकरण के फार्म में आधार का नंबर देना अनिवार्य कर दिया जाए।