Breakingउत्तराखंडराजनीतिराज्य

दुरस्त क्षेत्र की छात्राओं को मिलेगी छात्रवृत्तिः डॉ. धन सिंह रावत

  -उच्च शिक्षा मंत्री की अध्यक्षता में दो संस्थाओं ने किया अनुबंध

-खोसला फाण्डेशन 51 पीजी छात्राओं को देगा छात्रवृत्ति
.नांदी फाउण्उेशन 10 महाविद्यालयों में चलायेगा कौशल विकास कार्यक्रम

देहरादून। प्रदेश के दुरस्त क्षेत्रों की 51 मेधावी छात्राओं को परास्नातक कोर्स के लिये प्रतिवर्ष छात्रवृत्ति प्रदान की जायेगी। जबकि प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रही छात्राओं को कौशल विकास प्रशिक्षण दिया जायेगा। इसके लिये उच्च शिक्षा विभाग के साथ दो बड़े संस्थाओं ने एमओयू हस्ताक्षर किये हैं। इससे जहां एक ओर संसाधनों के अभाव से वंचित पर्वतीय क्षेत्रों की छात्राओं को उच्च ग्रहण करने हेतु अर्थिक मदद मिलेगी वहीं दूसरी ओर प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रही छात्राओं को निःशुल्क कौशल विकास का प्रशिक्षण दिया जायेगा।
उच्च शिक्षा मंत्री डॉ0 धन सिंह रावत की अध्यक्षता में देहरादून के एक निजी होटल में आयोजित कार्यक्रम में दो अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं ने उच्च शिक्षा विभाग के साथ दो अलग-अलग एमओयू हस्ताक्षर कर पर्वतीय क्षेत्रों की छात्राओं के लिये छात्रवृत्ति की सौगात दी। डॉ0 रावत ने बताया कि टाटा इंस्टीट्यट ऑफ सोशल साइंसेज के माध्यम से लंदन की संस्था ऋषि एंड मिलन खोसला फाउंडेशन ने पर्वतीय एवं दूरस्त क्षेत्रों की 51 छात्राओं को स्नात्कोत्तर की पढ़ाई के लिये प्रतिवर्ष रूपये 35000 की छात्रवृत्ति देने की घोषणा की। जबकि महिंद्रा प्राइड क्लासरूम नांदी फाउंडेशन ने प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रही दुर्गम क्षेत्रों की छात्राओं को चरणबद्ध रूप से कौशल विकास एवं स्वरोजगारपरक प्रशिक्षण देने पर सहमति जताई है। उन्होंने बताया कि इस संबंध में ऋषि एंड मिलन खोसला फाउंडेशन के प्रतिनिधि तारा चंद एवं निदेशक उच्च शिक्षा डॉ0 संदीप शर्मा ने समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये। जबकि एक अन्य अनुबंध में महिंद्रा प्राइड क्लासरूम नांदी फाउंडेशन की ओर से चीफ स्किल ऑफिसर सुश्री राधा वरदराजन व निदेशक उच्च शिक्षा ने एमओयू पर हस्ताक्षर किये। डॉ0 रावत ने बताया कि राष्ट्रीय अप्रेंटिस प्रोत्साहन योजना के तहत इस माह के अंतिम सप्ताह से एम0बी0 कॉलेज हल्द्वानी से चरणबद्ध रूप में कौशल विकास स्वरोजगार प्रशिक्षण शुरू कर दिया जायेगा ताकि उच्च शिक्षा ग्रहण कर रही छात्राओं को  आत्मनिर्भर एवं स्वावलंबी बनने में सहायता मिल सके। उच्च शिक्षा मंत्री ने छात्राओं को छात्रवृत्ति एवं प्रशिक्षण देकर उन्हें आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में कार्य करने के लिये दोनों संस्थाओं के संचालकों का आभार व्यक्त किया। इस दौरान ऋषि एंड मिलन खोसला फाउंडेशन के संस्थापक ऋषि और मिलन खोसला ने लंदन से वर्चुअल माध्यम से कार्यक्रम में  प्रतिभाग किया। कार्यक्रम में सचिव उच्च शिक्षा शैलेष बगोली, अपर सचिव उच्च शिक्षा प्रशांत आर्य, महानिदेशक विद्यालयी शिक्षा बंशीधर तिवारी, निदेशक उच्च शिक्षा डा0 संदीप शर्मा, सलाहकार रूसा प्रो0 एम0एस0एम0 रावत, प्रो0 के0डी0 पुरोहित, संयुक्त निदेशक उच्च शिक्षा डॉ0 ए0एस0 उनियाल, डॉ0दीपक पाण्डेय, ऋषि एंड मिलन खोसला फाउंडेशन के तारा चंद, नरेश अग्रवाल, महिन्द्रा प्राइड क्लासरूम नांदी फाउंडेशन के चीफ स्किल ऑफिसर सुश्री राधा वरदराजन, स्टेट हेड अक्षय कुमार, रवि श्रीवास्तव सहित विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।
—————————————-

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button